Monthly Archives: जून 2007

यह चिट्ठाचर्चा है अनदेखा न करें !!

शुक्रवार के सारे चिट्ठे यहाँ देखें अब तलक न देखे हो तो ।चिट्ठाजगत को सरकते हुए लोग बाग परीक्षण पोस्ट डाल रहे है और हम देख रहे है कि देखें कि अनदेखा कर दें । खैर यह तो सिद्ध हुआ … पढना जारी रखे

Advertisement

Uncategorized में प्रकाशित किया गया | 5 टिप्पणियां

बदलते ईंधन (?) का असर

अब हुआ कुछ यूँ कि ऊद़्अनतश्तरी के फ़्यूल टेंक में प्लाज्मा की कमी होने के कारण वातावरण के हितेषियों की बात सुन कर e-85 का ईंधन डालागया. टैंक को पूरा भर दिया गया ये बिना सोचे कि आखिरकार E-85 में … पढना जारी रखे

Uncategorized में प्रकाशित किया गया | 2 टिप्पणियां

उंगलियां गिन न पाईं कभी एक पल

कुछ चिट्ठे हैं एक दिवस मेंदस दस पोस्ट किया करते हैंदुरुपयोग है संसाधन का ऐसा कुछ मुझको लगता हैऔर व्यर्थ के जो विवाद का झंडा लेकर घूमा करतेउन चिट्ठों की चर्चा से मेरा यह कुंजीपट बचता है उंगलियों ने मेरी … पढना जारी रखे

Uncategorized में प्रकाशित किया गया | 4 टिप्पणियां

तो यूं हुआ अल्लाह और शिव के बीच संवाद

हिंदी ब्लॉगिंग अब धीरे धीरे युवा हो रही है ! यहां विवाद भी हैं , संवाद भी हैं ! सपने हैं अपने हैं , तकरार है , कटाक्ष है , कराह है –भक्ति ,धर्म, आध्यात्म, विज्ञान , सामाजिक सरोकार ,अपील, … पढना जारी रखे

Uncategorized में प्रकाशित किया गया | 5 टिप्पणियां

एक फुलकी खुश्बु है, कीसी दीलकी जुबानी है

कोई मलयाली, हिन्दी में चिट्ठा लिखेगा तो? कोई केरली, कोई जापानी और कोई अमरीकी हिन्दी में चिट्ठा लिखेगा तो? और कोई ख़ालिस गुजराती , हिन्दी में चिट्ठा लिखेगा तो? वह कैसा लिखेगा? जाहिर है, उसकी हिन्दी में उसकी अपनी मातृभाषा … पढना जारी रखे

चिट्ठा चर्चा, रविरतलामी, chithha charcha में प्रकाशित किया गया | 3 टिप्पणियां

संभव है इस बार सदी के बँधे हुए बन्धन खुल जायें

किसने किसको ठगा व्यर्थ अब चौराहे पर प्रश्न उठानाकौन सही है कौन गलत है मुश्किल है ये भी कह पानाकौन यहां निर्णयकर्ता है, और कौन वादी-प्रतिवादीइन सब से हो परे, हाशिये पर हमको कर्त्तव्य निभाना कल था पितॄ-दिवस, तो आओ … पढना जारी रखे

Uncategorized में प्रकाशित किया गया | 2 टिप्पणियां

एक धुरविरोधी चिट्ठे का विदाई गीत

आज ऐसे एक चिट्ठे की चर्चा जो (अब) नहीं है- लो प्रत्‍यक्षा तुम्‍हें छोटा सा बहाना चाहिए था खुश होने का, हम एक बड़ा सा कारण दे देते हैं, कारण यह है कि ये दुनिया आज सुबह सात बजे से … पढना जारी रखे

चिट्ठाचर्चा, मसिजीवी, chitha charcha, criticism, masijeevi में प्रकाशित किया गया | 19 टिप्पणियां

आइए, आज मालवी जाजम बिछाएं…

(मालवी जाजम के चिट्ठाकार – श्री नरहरि पटेल) भाई ई-स्वामी ने कोई दो साल पहले ख्वाहिश जाहिर की थी कि कोई मालवी चिट्ठा शुरू करवाई जाए… इधर कुछ समय से इक्का दुक्का मालवी चिट्ठे शुरु हुए हैं. देर से ही … पढना जारी रखे

चिट्ठा चर्चा, रविरतलामी, chithacharcha, chithha charcha में प्रकाशित किया गया | 5 टिप्पणियां

तीन साल की इगा का चिट्ठा

मासुमियत की दुनिया में, किलकारियों की गूँज के साथ आपका स्वागत है।…. तीन साल की इगा भी चिट्ठाकारी – हिन्दी चिट्ठाकारी में उतर चुकी हैं. ऊपर की पंक्ति उसके ब्लॉग का टैगलाइन है. उनके चिट्ठे का नाम है – मेरा … पढना जारी रखे

चिट्ठा चर्चा, रविरतलामी, chithha charcha में प्रकाशित किया गया | 3 टिप्पणियां

धन्यवाद-मैं पी लेता हूँ

आज मिल कर हम करें हर एक उसका धन्यावादकर गया जो टिप्पणी जाकर कहीं भी, धन्यवादतुमने सब बातें पढ़ीं हैं जो कि चिट्ठे पर लिखीलिख गये हो चार अक्षर, वक्त लेकर धन्यवादऔर जिनको आ नहीं पाया तनिक लिखना कभीइसलिये वे … पढना जारी रखे

Uncategorized में प्रकाशित किया गया | 3 टिप्पणियां