Category Archives: Srijan Shilpi

चर्चा के साथ-साथ अब समीक्षा भी

जब पढ़ने को बहुत कुछ हो और समय उस अनुपात में कम उपलब्ध हो तो क्या पढ़ा जाए और क्या छोड़ दिया जाए, यह तय करने के लिए फ्रांसिस बेकन का प्रसिद्ध स्वर्णिम नियम अत्यंत उपयोगी माना जाता है: Some … पढना जारी रखे

Advertisement

समीक्षा, सृजन शिल्पी, criticism, Srijan Shilpi में प्रकाशित किया गया | 3 टिप्पणियां