हम जहाँ हैं, वहीं से, आगे बढेंगे

माना नहीं नया साल आ ही गया। अब जब आ ही गया तो उसका स्वागत भी कर ही लिया जाये। आप सभी को नया साल मुबारक। आप सबने नये साल के कुछ न कुछ संकल्प लिये ही होंगे। शुभकामनायें इस बात के लिये आप उन संकल्पों में कुछ का साथ कुछ दिन तक तो कम से कम निबाह ही लें। इसई के साथ कार्टूनकुमार काजल जी का संकल्प भी देख लीजिये। अब बताओ भला बंदर टोपी पहनना भी कोई संकल्प होता है। लेकिन भाई ये कार्टूनिस्ट हैं जो न करायें।

देखिये नये साल का स्वागत अजित गुप्ता जी ने कैसे किया:

समय दौड़ रहा है। आज सूरज ने भी अपनी रजाई फेंक दी है। किरणों ने वातायन पर दस्‍तक दी है। हमने भी खिड़की के पर्दे हटा दिए हैं। दरवाजे भी खोल दिए हैं। सुबह की धूप कक्ष में प्रवेश कर चुकी है। फोन की घण्‍टी चहकने लगी है। नव वर्ष की शुभकामनाएं ली और दी जा रही हैं।


इस साल कई लोगों ने साल की शुभकामनाओं के बदले दशक की शुभकामनायें दी हैं। नया साल बेचारे का मन कसक रहा होगा कि उसका हिस्सा बकिया के नौ साल भी ले उड़े।

हम तो यही कहेंगे कि नया साल आपका झमाझम बीते। अगर कोई गम-वम तो उसे आप महेन्द्र मिश्र जी के उधर भेज दीजियेगा। उनको गम की थोक दरकार है। उन्होंने कहा भी है:

अपने गम देते मुझे कुछ सूकून तो मिले
कितने बदनसीब है जिन्हें गम नहीं मिले


उधर रिचा कहती हैं:

मुश्किल है जीना उम्मीद के बिना
थोड़े से सपने सजायें
थोड़ा सा रूमानी हो जाएँ…

सतीश सक्सेना जी की ये वाली फोटो देखकर लगता है कि वे नये साल की तरह उदय हो रहे हैं। उन्होंने अपने ब्लॉग पर नये साल की शुभकामनायें मांगी हैं। लिखा है:

इस वर्ष तो यही समझ आया कि मूर्खों से ईश्वर रक्षा करे और चालबाजों से दूरी बनी रहे, हालाँकि पहचानने में बार बार गलती की है …..😦

दोस्तों से अनुरोध है कि सच्चे मन से, अगले वर्ष की शुभकामनायें दे जाना, हमारे ब्लॉग पर…बहुत जरूरत है !


मैं तो यही कामना करता हूं कि वे पहचानने में होने वाली गलती बार-बार करते रहें। इससे दो पोस्टें निकलती हैं कम से कम। एक पहचानने से पहले और एक पहचानने के बाद।

उधर देखिये नये साल का उत्सव मनाने के लिये दुर्योधन को क्या-क्या पापड़ बेलने पड़े। बिना कैमरामैन की रिपोर्टिंग कर रहे हैंकलकत्ता से शिवकुमार मिश्र:

जयद्रथ भी बहुत खुश है. शाम से ही केश- सज्जा में लगा हुआ है. दर्पण के सामने से हट ही नहीं रहा है. कभी मुकुट को बाईं तरफ़ से देखता है तो कभी दाईं तरफ़ से. शाम से अब तक मोतियों की सत्रह मालाएं बदल चुका है. चार तो आफ्टरसेव ट्राई कर चुका है. उसे देखकर लग रहा है जैसे उसने आज ऐसा नहीं किया तो नया साल आने से मना कर देगा.

नाचगाने बोले तो नृत्य का भी इंतजाम है। देखिये:

कल उज़बेकिस्तान से पधारी दो नर्तकियों को लेकर आया. कह रहा था ये दोनों वहां की सबसे कुशल नर्तकियां हैं. पोल डांस में माहिर. उनकी फीस के बारे में पूछा तो पता चला कि बहुत पैसा मांगती हैं. कह रही थीं सारा पेमेंट टैक्स फ्री होना चाहिए. उनकी डिमांड सुनकर महाराज भरत की याद आ गई. एक समय था जब उज़बेकिस्तान भी महाराज भरत के राज्य का हिस्सा था. आज रहता तो इन नर्तकियों की हिम्मत नहीं होती इस तरह की डिमांड करने की. लेकिन अब कर भी क्या सकते हैं?


प्रबुद्ध की ये कविता मजेदार है। देखिये वे क्या कहते हैं:

मेरे क्यूबिकल से बस एक झलक मिलती थी
वो उन दिनों कमाल लगती थी
कनखियों से देखता था कभी
और गुज़रता था बेहद करीब से कभी
मैं शुक्रगुज़ार हूं दफ्तर के डिज़ायनर का
कॉरीडोर संकरे बनाए हैं काफी

आगे इसी तरह की और बातों पर शुक्रगुजार होते हुये आखिरी में देखिये मामला किस करवट बैठता है:

वो एक लम्हा जैसे वहीं रुक गया है
कि तभी,ऐसी सिचुएशन में, हिंदी फिल्मों की
मेरी सारी जमा पूंजी को कच्चा चबाते हुए
उसीके मुखारविंद से फूटा है
हिंगलिश गालियों का पूरा लॉट
एक भी गाली ऐसी नहीं
जिससे डक करके बच सको
उसी के शब्दों में–
&^^%%$%#%#@$#@@@%^$
U scoundrel! Can’t u see properly?
सकपकाया हुआ उठा हूं मैं
और नीची नज़रों से भागा हूं बदहवास

बॉस की तरफ़ बढ़ते हुए
गरिया रहा हूं जी भर के
दफ़्तर के डिज़ायनर को
साला %*%&(^%%$^$^#@%^%@

लिफ्ट को कहीं और नहीं बना सकता था !

पिछले साल की सबसे बेहतरीन पोस्टों में एक अगर कही जाये तो पल्लवी त्रिवेदी की यह पोस्ट जरूर उसमें शामिल होगी। कुछ कल्पना और ज्यादा आपबीती है शायद यह पोस्ट! देखिये दादी मेरी जान…कितना सरप्राइज़ करती हो तुम के कुछ अंश:

  • गुस्से में उन्हें किसी का बोलना पसंद नहीं आता..यहाँ तक की रेडियो पे गाने बजते उनमे भी नुक्स निकालना शुरू कर देती! एक बार मैंने सुना किशोर कुमार को कह रही थीं ” जब गाना नहीं आता तो काहे गाते हो जी ” शाम होते होते दादी का गुस्सा छूमंतर हो जाता और झुर्री भरे गालों पर मुस्कान की रेखा खिंच जाती!

  • भाई ने दादी को जाने कैसे पटा रखा था! रोज़ शाम को छत पर वह पतंग उडाता और दादी मज़े से कुर्सी पर उसकी चरखी थामे बैठी रहती! घर में दादी के इस कार्य के बारे में किसी को पता नहीं था! एक दिन मम्मी छत पर पहुंची तब हँसते हुए उन्होंने पापा को छत पर ले जाकर दिखाया! बाद में भाई ने बताया…चरखी पकड़ने के बदले लास्ट में दादी पांच मिनिट पतंग उड़ाती थी और रोज़ एक पतंग कटवा देती थी!
  • रोज़ शाम को दादी मंदिर जाती थीं लेकिन पिछले एक हफ्ते से मंदिर की जगह वो प्रिया के घर जा रही थीं! सात दिन में उन्होंने प्रिया से मेल आई डी खोलकर मेल करना सीख लिया…सिर्फ मुझे सरप्राइज़ कार्ड भेजने के लिए! मुझे अपनी दादी पर बड़ा फक्र हो रहा था! किसी की दादी को कंप्यूटर नहीं आता था…सिवा मेरी लाडली दादी के!
  • दादी ने मुझे बताया कि दादाजी हमेशा दादी का जन्मदिन पर उन्हें अपने हाथों से सजाते थे…बताते बताते दादी की आँखों में पानी तैर आया था! दादी एक बार फिर दादाजी के लिए तैयार हो रही थीं! और मैं उन्हें दादाजी की फेवरिट साडी पहना रही थी! सचमुच उस पर्पल कलर की साड़ी में दादी बहुत खूबसूरत लग रही थीं!मैंने उन्हें इस तरह पहली बार देखा था! लग रहा था दादी एक पूरा ज़माना पार करके कहीं बहुत पीछे लौट रही थीं! वो हर साल ये सफ़र तय करती थीं! इस बार में इस सफ़र में साथ थी!
  • किस्सागोई पल्लवी त्रिवेदी की अद्भुत है। उन्होंने जितनी भी पोस्टें लिखीं वे सब की सब बहुत अच्छी हैं सिवाय कुछ कविताओं के। कवितायें अपन को जमती नहीं।🙂

    अरविन्द मिश्र जी ने देखिये कितनी अदाओं से एक नये शब्द म्यूज से परिचय कराया। इसके बाद आपबीती सुना दी:

    न अब मैं किसी का म्यूज रहा और न अब कोई मेरा …..आप चाहें तो इस अवसर पर वह फ़िल्मी गीत गा सकते हैं कोई हमदम न रहा …. मगर मेरा हठयोग तो देखिये फिर भी अपने टूटे फूटे सृजन कर्म के साथ आपके सम्मुख हूँ -अहर्निश रचना कर्म को उद्यत ..यह बेहयाई नहीं मित्र बल्कि एक जिजीविषा है …..जीवन की असली परिभाषा समझ लेने की एक छटपटाहट है ….एक अंतर्नाद है .

    बकिया और सब ठीक है लेकिन न अब मैं किसी का म्यूज रहा और न अब कोई मेरा पढ़कर यही दिलासा दिया जा सकता है कि सब कुछ लुट जाने के बाद भी भविष्य बचा रहता है।

    कल एक मित्र जो पिछले दिनों ब्लॉगजगत से अलग रहे ने कोई हंगामेदार च मजेदार पोस्ट का लिंक मांगा। हमने कुछ लिंक दिये। उनमें से आखिरी लिंक यह था। इसमें किसी स्थापित ब्लॉगर ने फ़र्जी प्रोफ़ाइल बनाकर ब्लॉग बनाकर यह पोस्ट लिखी। इसके मुख्य अंश हैं:

    १) अरूप शुकुलबा को दिया गुरु घंटाल सम्मान ( प्राईमरी का एक स्लेट और चार लेमनचूस के साथ कानपुर की फैकटरी में बना चमड़े का प्रशस्ती पत्र )
    (२) खीश निपोर त्रिपाठिया को दिया टपक गिरधारी सम्मान ( अयोध्या में बना एक अंगौछा और चार लेमनचूस )
    (३)पञ्च मणि उर्फ़ पंचमवा को दिया बिन पेंदी का लोटा सम्मान ( मुरादाबाद का एक बिना पेंदी का लोटा और चार लेमनचूस )


    हालांकि वहां डिस्कलेमर लगा है –यह खालिश व्यंग्य है,किसी भी जीवित व्यक्ति या घटना से इसका कोई संबंध नहीं है,किन्तु किसी घटना या वास्तविक पात्र से मेल खा जाए तो महज इत्तेफाक समझें ! लेकिन यह साफ़ है कि महज इतेफ़ाक वाले नाम अरूप शुकुलबा, खीश निपोर त्रिपाठिया और पञ्च मणि उर्फ़ पंचमवा वास्तव में अनूप शुक्ल , अमरेन्द्र त्रिपाठी और सतीश पंचम हैं।

    यह कोई नयी बात नहीं कई लोग लिखते हैं ऐसा। हमने भी मजे लिये आनन्दित हुये यह पोस्ट बांचकर। मुश्किल नहीं है यह अनुमान लगाना कि किसने लिखी होगी यह पोस्ट!

    मजे की बात जो मुझे लगी वह यह कि अरविन्द मिश्र जी इस ब्लॉग के फ़ालोवर हैं। जब सबसे पहले देखा था तब वे पहले फ़ालोवर थे। अरविन्द मिश्र तो बहादुर और बेधड़क इंसान हैं। इशारे से भी उनको अगर कुछ कहा जाये तो खुलेआम हड़का दिया था अनूप शुक्ल को उनकी सिट्टी-पिट्टी गुम और बोलती बंद हो गयी थी। मिश्र जी ने कहा था:
    अपनी औकात में रहो अनूप!

    ऐसा शेरदिल इंसान ऐसे ब्लॉग का फ़ालोवर बनता है जिसमें यह तक हिम्मत नहीं कि सीधे-सीधे नाम ले सके तो लगता है मिसिरजी कमजोर आदमी के फ़ालोवर बन गये। किंचित आश्चर्य हुआ। बस किंचित ही। ज्यादा नहीं। संतोषी व्यक्ति हैं। कम में संतोष कर लिया। बस यही लगा कि भगवान परशुराम ने कर्ण कोचिंग इंस्टीट्यूट ज्वाइन कर ली है।🙂

    यह देखकर हरिशंकर परसाई जी का लिखा याद आ गया- वे शेर हैं लेकिन सियारों की बारात में बैंड बजाते हैं।🙂

    मेरी पसंद

    हम जहाँ हैं,
    वहीं से, आगे बढेंगे।

    हैं अगर यदि भीड़ में भी, हम खड़े तो,
    है यकीं कि, हम नहीं,
    पीछे हटेगे।

    देश के, बंजर समय के, बाँझपन में,
    या कि, अपनी लालसाओं के,
    अंधेरे सघन वन में,
    पंथ, खुद अपना चुनेंगे ।

    या , अगर हैं हम,
    परिस्थितियों की तलहटी में,
    तो ,
    वहीं से , बादलों कॆ रूप में , ऊपर उठेंगे।

    राजेश कुमार सिंह

    About bhaikush

    attractive,having a good smile
    यह प्रविष्टि Uncategorized में पोस्ट की गई थी। बुकमार्क करें पर्मालिंक

    एक उत्तर दें

    Fill in your details below or click an icon to log in:

    WordPress.com Logo

    You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

    Twitter picture

    You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

    Facebook photo

    You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

    Google+ photo

    You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

    Connecting to %s