Monthly Archives: दिसम्बर 2007

आज तो स्वागत की कर लें अभी

आज की खास पेशकश ११ साल के अरिंदम कुमार ,कक्षा ६ की पहली पोस्ट। मोहल्ले और रिजेक्ट माल दोनों जगह यह पोस्ट प्रकाशित हुयी। अरिंदम ने लिखा है- लेकिन फिल्म तो अच्छी तब बनती जब ईशान अच्छा पेंटर भी नहीं … पढना जारी रखे

Uncategorized में प्रकाशित किया गया | 3 टिप्पणियाँ

बेनज़ीर की हत्या यानी पश्चिमी मीडिया के हैप्पी हॉलीडेज़!

कल पाकिस्तान में बेनजीर भुट्टो की हत्या कर दी गयी। ब्लागर साथियों ने इस घटना पर अपने विचार व्यक्त किये हैं।मुखियाजी कहते हैं- हमे आज भी याद है १९९० का दौर जब उनका दुपट्टा और मुस्कान भारत मे भी काफी … पढना जारी रखे

Uncategorized में प्रकाशित किया गया | 5 टिप्पणियाँ

आजा्दी एक्स्प्रेस की मुफ़्तिया सैर

आज की सबसे रोचक पोस्ट ममताजी की आजादी एक्सप्रेस के बारे में लगी। पहले भी अनीताजी और संजीत इसमें घुमवा चुके हैं लेकिन शायद इत्ती फोटो नहीं दिखाये थे। 🙂 नीरज रोहिल्ला भी प्रेरित होने लगे हैं। उन्होंने अपने चिठेरा-चिठेरी … पढना जारी रखे

Uncategorized में प्रकाशित किया गया | 5 टिप्पणियाँ

बर्लिन दीवार का टूटना और दिलों का मिलना

आज की चर्चा की शुरुआत एक सवाल से- बर्लिन दीवाल का टूटना, पूर्वी-पश्चिमी जर्मनी का आपस में विलय, होना यह एक भावनात्मक बात थी। मुझे जर्मन लोगों ने बाताया कि उन्हें इसकी प्रसन्नता है। हमारे भी – दो टुकड़े हुए … पढना जारी रखे

Uncategorized में प्रकाशित किया गया | 5 टिप्पणियाँ

ज्यादा फिलासफ़ी न झाड़ें तो अच्छा…

गुजरात में हुये चुनावों में मोदीजी जीत गये। आज टीवी पर बताया गया कि वे भावुक भी हैं और अपनी पार्टी के लोगों को विनम्र रहने की अपील भी की। मोदीजी ने कहा भी वे सीएम(कामन मैन) थे, हैं और … पढना जारी रखे

Uncategorized में प्रकाशित किया गया | 4 टिप्पणियाँ

आह, पुलाव….. वाह, पुलाव- आनंदम् आनंदम्

शुरआत एक सुन्दर से चित्र से। आप देखिये इसे। आलोक पुराणिक बताते हैं कि ये बगल वाला बन्दर बाद में बड़ा दंतिस्ट बनेगा। इसकी नोटबुक उन्होंने अभी से अपने पास रख ली हैं। नया चिट्ठा देखिये प्रतिमा वत्सजी का। देखिये … पढना जारी रखे

Uncategorized में प्रकाशित किया गया | 9 टिप्पणियाँ

झल्लर का सत्ता विमर्श -शुरुआत मां-बहन से

1. विधायक, सांसद टाई-सूट में नज़र आएंगे!: भले ही वे कुछ पहने या न पहनें? क्या कमाल है! 2.झल्लर का सत्ता विमर्श : आलोक पुराणिक के साथ पदों के बटवारे के पर बहस!शुरुआत मां-बहन से। 3.इस्लामिक एपॉस्टसी की अवधारणायें : … पढना जारी रखे

Uncategorized में प्रकाशित किया गया | 3 टिप्पणियाँ

पाडभारती, प्रार्थना और पतलून पुजारीजी की

पाडभारती शानदार है। ये हम नहीं आप भी कहेंगे एक बार सुन तो लें। देबाशीष और शशि सिंह ने एक बार फिर शानदार प्रस्तुति की पाडभारती की। आठ मिनट की इस आडियो हलचल में जीटाक पर अपना स्टेटस लगाने के … पढना जारी रखे

Uncategorized में प्रकाशित किया गया | 3 टिप्पणियाँ

झूठ के प्रयोग में ईमानदारी बरतें

कल की चर्चा में ज्ञानजी की टिप्पणी थी-भैया हम तो इम्प्रेस्ड हैं। सवेरे सवेरे सर्दी में यह पढ़ना और पोस्ट भी ठोक देना समग्रता से – कौन सी चक्की का खाते हो! अब क्या बतायें। ज्ञानजी हमसे इम्प्रेस्ड हैं और … पढना जारी रखे

Uncategorized में प्रकाशित किया गया | 6 टिप्पणियाँ

बुक फेयर है या सब्‍जी की दुकान

त्रिलोचन जी के बारे में बहुत अच्छा संस्मरण लिखा है इयत्ता वाले इष्टदेव सांकृत्यायन ने। त्रिलोचनजी के बारे में बताते हुये उन्होंने लिखा- अपने समय में में उन्हें हिन्दी का सबसे बडा रचनाकार मानता हूँ. सिर्फ इसलिए नहीं कि उनकी … पढना जारी रखे

Uncategorized में प्रकाशित किया गया | 4 टिप्पणियाँ