Monthly Archives: दिसम्बर 2006

इस वर्ष की अंतिम चिट्ठा चर्चा

लो जी जनाब! २००६ कब आया और कब चला गया, पता ही नही चला। यूं तो प्रत्येक वर्ष अपने साथ कुछ ना कुछ नया जरुर लाता है। यही हुआ भी हमारे चिट्ठा जगत के साथ। २००६ मे हमारे परिवार मे … पढना जारी रखे

Uncategorized में प्रकाशित किया गया | 6 टिप्पणियाँ

संभावनाओं का बिगुल

वर्ष 2006 हिन्दी चिट्ठाजगत के लिये 2007 की संभावनाओं का बिगुल बजाते हुये जा रहा है। यह साल हिन्दी के जाल पर फैलाव की नींव का पत्थर साबित होगा, मेरा अनुमान है कि चिट्ठाकारों की संख्या इस साल करीब 60 … पढना जारी रखे

debashish में प्रकाशित किया गया | 2 टिप्पणियाँ

सफाई का काम एक कला है

आज जब मैं यह पोस्ट लिख रहा हूं तो साल का आखिरी हफ्ता चल रहा है। एक तरह से मेरी नियमित चर्चा की यह आखिरी पोस्ट है। साल की समापनी पोस्ट जीतेंद्र लिखेंगे क्योंकि उस दिन उनकी ही बारी है। … पढना जारी रखे

Uncategorized में प्रकाशित किया गया | 7 टिप्पणियाँ

मध्यान्हचर्चा दिनांक 27/12/2006

संजय एक लम्बे अंतराल के बाद कक्ष में कदम रख रहे थे. धृतराष्ट्र का नाराज होना स्वभाविक था. धृतराष्ट्र कोफी का घूँट लेते लेते रूके.धृतराष्ट्र : तुम लम्बी-लम्बी छुट्टियाँ मारने लगे हो.संजय : क्या फर्क पड़ता है, महाराज? आपने देखा … पढना जारी रखे

Uncategorized में प्रकाशित किया गया | 3 टिप्पणियाँ

हम होंगे कामयाब

अब लो कर लो बात, हमारे ई-पंडित जी अपने होनहार छात्रों से आपका परिचय करवाने लाये हैं, पूरी उत्तर पुस्तिका के साथ. बालक बड़े ही होनहार हैं और इन हाथों में देश का भविष्य उज्जवल दिखाई दे रहा है. आप … पढना जारी रखे

Uncategorized में प्रकाशित किया गया | 3 टिप्पणियाँ

क्रिसमस, चिट्ठे और…………….

क्रिसमस का दिन समय बहुत कम,चिट्ठा चर्चा करनी हैयही सोचकर आया, लेकिन चिट्ठाकार नदारद थेइधर नजर दौड़ा कर देखा, और उधर नजरें डालींलेकिन केवल तीन संदेसे लेकर आये नारद थे सबसे पहले,खुशी नहीं है महाशक्ति ने बतलायायद्यपि तिहरा शतक एक … पढना जारी रखे

Uncategorized में प्रकाशित किया गया | 1 टिप्पणी

केबीसी – 3: पृथ्वी का सर्वाधिक खूंखार जानवर कौन है?

(चित्र- दर्पण) चिट्ठाकारों को, पता नहीं कैसे, किंग खान द्वारा प्रस्तुत किए जाने वाले केबीसी -3 के कुछ एपीसोड के सवाल जवाब हाथ लग गए. प्रश्नोत्तरी आपके लाभार्थ निम्नानुसार प्रस्तुत की जा रही है. केबीसी: पृथ्वी का सर्वाधिक खूंखार जानवर … पढना जारी रखे

चिट्ठा चर्चा, हिन्दी, हिन्दी चिट्ठाचर्चा, hindiblogs में प्रकाशित किया गया | 4 टिप्पणियाँ

चिट्ठा चर्चा: बदलते समय के त्योहार

चुनावों के इस दौर मे २३ तारीख का चिट्ठा लेकर हम हाजिर हूँ। अरे इ का? हम तनिक लेट हुई गए तो देबाशीश ने दन्न से २४ तारीख की चिट्ठा चर्चा भी कर दी। अरे दादा! इत्ती जल्दी का थी, … पढना जारी रखे

चिट्ठा चर्चा, हिन्दी, hindiblogs में प्रकाशित किया गया | 2 टिप्पणियाँ

कस्मे वादों से गूँज रहा है गली मोहल्ला

रवि परेशान हैं कि मोबाइल कंपनियों मोबाइलें तो बेचती हैं मगर यूजर्स मैनुअल में दो पन्ने मोबाइल मैनर्स के लिए नहीं रखतीं आपका कोई पुराना मित्र, जिसके दर्शन महीनों से नहीं हुए होते हैं, अचानक-अकारण आपसे बे-वक्त मिलने आ पहुँचता … पढना जारी रखे

debashish में प्रकाशित किया गया | 1 टिप्पणी

मध्यान्हचर्चा दिनांक: 23-12-2006

संजय खस्ताहाल अवस्था में कक्ष में कदम रखा, आज वे दिन भर खुब व्यस्त रहे थे. अब हिम्मत नहीं थी की स्क्रीन पर आँखे गड़ाये. पर बॉस का आदेश हुआ की इन दिनो काम में ढ़िलाई आ गई है, तत्काल … पढना जारी रखे

Uncategorized में प्रकाशित किया गया | 1 टिप्पणी