Category Archives: ek aur anek

एक और अनेकः सच्चा शरणम् अखिलं मधुरम्

कभी पहले जब मैं नियमित चर्चा करता था तब मैं ज्यादा से ज्यादा उन चिट्ठों को टटोलता था जो भीड़ में गुम से रहते थे। अपनी इस कोशिश में कई अच्छे लिखने वालों का पता चला था जिनमें से ज्यादातर … पढना जारी रखे

chitha charcha, chitthacharcha, ek aur anek, Tarun में प्रकाशित किया गया | 16 टिप्पणियाँ

एक और अनेकः अशोक का कृषि दर्शन

अपने पर्सनल चिट्ठे पर जब मैं दूरदर्शन के पुराने दिनों की याद कर रहा था तो उसमें डा अनुराग ने एक टिप्पणी में कहा था, जो एक प्रोग्राम कुछ खासा अच्छा नही लगता था वो था कृषि दर्शन, कमोबेश यही … पढना जारी रखे

chitha charcha, chitthacharcha, ek aur anek, Tarun में प्रकाशित किया गया | 16 टिप्पणियाँ