Category Archives: chithha charcha

एक फुलकी खुश्बु है, कीसी दीलकी जुबानी है

कोई मलयाली, हिन्दी में चिट्ठा लिखेगा तो? कोई केरली, कोई जापानी और कोई अमरीकी हिन्दी में चिट्ठा लिखेगा तो? और कोई ख़ालिस गुजराती , हिन्दी में चिट्ठा लिखेगा तो? वह कैसा लिखेगा? जाहिर है, उसकी हिन्दी में उसकी अपनी मातृभाषा … पढना जारी रखे

चिट्ठा चर्चा, रविरतलामी, chithha charcha में प्रकाशित किया गया | 3 टिप्पणियाँ

आइए, आज मालवी जाजम बिछाएं…

(मालवी जाजम के चिट्ठाकार – श्री नरहरि पटेल) भाई ई-स्वामी ने कोई दो साल पहले ख्वाहिश जाहिर की थी कि कोई मालवी चिट्ठा शुरू करवाई जाए… इधर कुछ समय से इक्का दुक्का मालवी चिट्ठे शुरु हुए हैं. देर से ही … पढना जारी रखे

चिट्ठा चर्चा, रविरतलामी, chithacharcha, chithha charcha में प्रकाशित किया गया | 5 टिप्पणियाँ

तीन साल की इगा का चिट्ठा

मासुमियत की दुनिया में, किलकारियों की गूँज के साथ आपका स्वागत है।…. तीन साल की इगा भी चिट्ठाकारी – हिन्दी चिट्ठाकारी में उतर चुकी हैं. ऊपर की पंक्ति उसके ब्लॉग का टैगलाइन है. उनके चिट्ठे का नाम है – मेरा … पढना जारी रखे

चिट्ठा चर्चा, रविरतलामी, chithha charcha में प्रकाशित किया गया | 3 टिप्पणियाँ

दूरदर्शन का अदूरदर्शी चेहरा…

पिछले दिनों भारतीय टीवी समाचार चैनलों ने हिन्दी चिट्ठाकारों को इतना आंदोलित और उद्वेलित कर दिया कि अंततः उन्होंने विरोध स्वरूप अपने कम्प्यूटर के कुंजीपट उठा ही लिए. सुनील तथा रीतेश को एक तालिबानी किशोर द्वारा एक मासूम व्यक्ति का … पढना जारी रखे

चिट्ठा चर्चा, रविरतलामी, chithha charcha में प्रकाशित किया गया | 11 टिप्पणियाँ

चिट्ठाकार कवि सम्मेलन

ये सच नहीं है कि चिट्ठापाठकों द्वारा और चिट्ठाचर्चा में भी कविताओं को तरजीह नहीं दी जाती. ये क्या – देखिए तो, आज चिट्ठाचर्चा में धुंआधार कवि सम्मेलन हो रहा है – अनहद नाद मां सब कुछ कर सकती है … पढना जारी रखे

चिट्ठाचर्चा, रविरतलामी, chithha charcha में प्रकाशित किया गया | 7 टिप्पणियाँ

मुग्‍धा नायिकाओं के देश में आइनों का व्‍यापारी

अक्‍सर देखने में आता है कि विवेक और उन्‍माद चिट्ठाजगत में बारी बारी से आते हैं, ओर देखो अनचाहे ही मोहल्‍ला जिसे ‘वी लव टू हेट’ ही इसे तय करने लगा है। नहीं नहीं ये नही कि वह जब कहता … पढना जारी रखे

चिट्ठाचर्चा, मसि‍जीवी, chithha charcha, masijeevi में प्रकाशित किया गया | 5 टिप्पणियाँ

हिन्दू मुस्लिम खुदा और भारत

यह खिलवाड़ है, जो कईयों के लिए खेल है. खिलाड़ी खेल रहे है अपना खेल. उकसा कर तमाशा देखना, फिर बदनाम करना. क्या बाहरी दुनियाँ क्या नेट-जगत, यही खिलवाड़ जारी है. क्या अब यह खिलवाड़ बन्द करेंगे? रवि रतलामी जी … पढना जारी रखे

चिट्ठाचर्चा, संजय, chithha charcha, sanjay bengani में प्रकाशित किया गया | 6 टिप्पणियाँ