Category Archives: chitha charcha

गीत सुनोगे हुजूर या गजल सुनाऊँ

चर्चा में इस ख्याल से फिर आ गया हूँ मैं, शायद मेरे जाने से मुर्झा गये हों आप। लेकिन ऐसा मेरा मानना है, आप लोग तो सोच रहे होंगे – जाने से उसके चर्चा से खुश हो गये थे सब, … पढना जारी रखे

chitha charcha, chitthacharcha, Tarun में प्रकाशित किया गया | 15 टिप्पणियाँ

ढाई आखर प्रेम का पढ़े सो पंडित होय

आज वी डे है यानि वैलेंटाईन डे, आज ये हमारी आखिरी चर्चा भी है, आज के बाद किसी और शनिच्चर को आना होगा। आज अपनी आखिरी चर्चा वैलेंटाईन दिवस की शुभकामनाओं के साथ समर्पित करके जा रहा हूँ उन बुजुर्गों … पढना जारी रखे

chitha charcha, chitthacharcha, Tarun में प्रकाशित किया गया | 30 टिप्पणियाँ

पहला प्यार और बसंत की मार कल काहे पड़ी थी

कल अनुपजी ने चर्चा करी थी हमारा जिक्र किया साथ में एक “दा विंसी कोड” भी छोड़ गये, जिसे कोई भलामानुष तोड़ नही पाया। माथा हमारा भी ठनका था लेकिन फिर जब टिप्पणियों में अपना नाम बारबार पढ़ने को मिला … पढना जारी रखे

chitha charcha, chitthacharcha, Tarun में प्रकाशित किया गया | 17 टिप्पणियाँ

छुपा लो यूँ बैंगलोर में प्यार मेरा कि जैसे पब में बोतल बियर की

आज के दौर में दो अतिवादी संस्कृतियाँ अपने पैर पसार रही हैं, पहली वो जिसका प्रतिनिध्त्व राम सेने कर रही है और दूसरी वो जो आजादी का मतलब ड्रग्स सेवन से लगाते हैं। लेकिन फिलहाल देश हर साल की तरह … पढना जारी रखे

chitha charcha, chitthacharcha, Tarun में प्रकाशित किया गया | 20 टिप्पणियाँ

आओ विचारें मिलकर सभी

सोच रहा हूँ कहाँ से शुरूआत करूँ, कहीं ये विचारों का मर जाना तो नही। कह नही सकता शायद इसकी वजह ३-४ दिन से कुछ ना पढ़ पाना हो। सपनों का मर जाना, हो सकता है खतरनाक हो लेकिन आजकल … पढना जारी रखे

chitha charcha, chitthacharcha, Tarun में प्रकाशित किया गया | 12 टिप्पणियाँ

हम हैं इस पल यहाँ, जाने वो हैं कहाँ

आप जरूर सोच रहे होंगे कि ये ‘वो‘ है कौन? बताते हैं लेकिन उससे पहले स्कूल के वक्त छत्रपति शिवाजी से जुड़ी इतिहास में पढ़ी एक बात याद आ रही है – गढ़ आया सिंह गया। शायद अब आप समझ … पढना जारी रखे

chitha charcha, chitthacharcha, Tarun में प्रकाशित किया गया | 12 टिप्पणियाँ

घड़ी से दौड़ लगाती तस्‍वीर चर्चा

कंप्‍यूटर में कई चीजें तकलीफ देती हैं मसलन ब्राउजर में हिस्‍ट्री का औजार जो न केवल ये चुगली कर देता है कि हम नेट पर कहॉं कहॉं मुँह मार रहे थे वरन ये भी बता देता है कि कुल जमा … पढना जारी रखे

मसिजीवी, chitha charcha, masijeevi में प्रकाशित किया गया | 17 टिप्पणियाँ