Category Archives: हिन्दी

आपको कंडोन नहीं कंडेम बोलना था

२००८ २००८ वर्ष २००८ ईस्वी सन् की अपनी अन्तिम चर्चा करते हुए भोर के ४ बजे मुझे इस कल्पना से अत्यन्त हर्ष हो रहा है कि चिट्ठाचर्चा के लिए इस वर्ष का यह अन्तिम पखवाड़ा बहुत महत्वपूर्ण रहा है। क्य़ों … पढना जारी रखे

चिट्ठाचर्चा, हिन्दी, Blogger, hindiblogs, Kavita Vachaknavee में प्रकाशित किया गया | 23 टिप्पणियाँ

गब्बर चिट्ठाचर्चाकार संवाद

(वैसे तो मूलत: यह चर्चा 19 मार्च 2007 को की गई थी. इस बीच, हिन्दी चिट्ठाकारी में हजारों पोस्टें ठेल दी गई हैं, और चिट्ठाकार पांच सौ से बढ़कर पांच हजार हो गए हैं, मगर परिस्थितियां घेला भर नहीं बदली … पढना जारी रखे

चिट्ठाचर्चा, रविरतलामी, हिन्दी, chithha charcha में प्रकाशित किया गया | 11 टिप्पणियाँ

अपनी ही तुच्छताओं की अधीनता

आज यद्यपि मुझे यात्रा पर निकलना है और प्रातः ४.३० बजे बैठ कर चर्चा शुरू करने की इस घड़ी में अभी यह भी नहीं पता कि कितना लिखा जा सकेगा। स्पोंडेलाइटिस के गंभीर कष्ट से १० घंटे से परेशान हूँ … पढना जारी रखे

चिट्ठाचर्चा, हिन्दी, हिन्दी चिट्ठाचर्चा, Blogger, chitthacharcha, criticism, Kavita Vachaknavee में प्रकाशित किया गया | 17 टिप्पणियाँ

सूरज कण कण नै चमकावै, चन्दो इमरत रस बरसावै,

गत दिनों Ghost Buster ने प्रश्नवाचक मुद्रा में व्यंग्य किया कि तो क्या ब्लॉग जगत में कवितायें भी लिखी जा रही हैं???? कहाँ???? (मतलब राकेश खंडेलवाल जी के अलावा.) तो सोचा कि आज कविता की चर्चा अधिक की जाए और … पढना जारी रखे

हिन्दी, हिन्दी चिट्ठाचर्चा, chithacharcha, Kavita Vachaknavee में प्रकाशित किया गया | 15 टिप्पणियाँ

और भी काम हैं जमाने में…

जब दो तीन महिने भारत से ठकुरासी करके लौटते हैं तो पहले दिन ऒफिस जाते ही दस मिनट हालचाल पूछने का शिष्टाचार निभाने के बाद ऐसा काम लादा जाता है कि प्राण ही निकल आते हैं. लगता है कि गये … पढना जारी रखे

उड़न तश्तरी, चिट्ठचर्चा, समीर लाल, हिन्दी, हिन्दी चिट्ठाचर्चा, blogs, chitha charcha, debashish में प्रकाशित किया गया | 23 टिप्पणियाँ

चिट्ठाकार मिलन : कनफ़्यूज़न, कॉफ़ी और $#@&^ गर्रर…

सबसे पहले आपको एक ‘जोक’ सुनाता हूँ. जोक इसलिए कि जोक की जोंक से तुक मिलती है और ‘चुटकुले’ में सोफ़िस्टिकेशन नहीं आता. जोक यह है – दिल्ली में कोई दर्जन भर चिट्ठाकार आधा-दर्जन घंटे भर गपियाते रहे और चिट्ठाकारों … पढना जारी रखे

चिट्ठा चर्चा, हिन्दी, chithha charcha, hindiblogs में प्रकाशित किया गया | 1 टिप्पणी

चिट्ठा चर्चा : अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस

साथियों, मै आपका दोस्त जीतेन्द्र चौधरी फिर से हाजिर हूँ, बुधवार यानि 7 फरवरी, 2007 के सभी चिट्ठो की चर्चा करने के लिए। बुधवार को काफी चिट्ठे लिखे गए, जो यहाँ पर देखे जा सकते है। संजय भाई ने एक … पढना जारी रखे

चिट्ठा चर्चा, हिन्दी, chithha charcha में प्रकाशित किया गया | 9 टिप्पणियाँ