Category Archives: सुजाता

बेटा जी ,अभी बहुत छोटे हो …इस फिक्र में क्यों घुल रहे हो

किसी महान दार्शनिक ने कहा है – संक्रमण काल में कई बार बुद्धि विभ्रम मे पड जाती है और हमारा मन कुछ अजाने भयों की कल्पना करके उनके खिलाफ मोर्चाबन्दी की शुरुआत कर देता है।यह मोर्चाबन्दी वचन ,कर्म की किसी … पढना जारी रखे

सुजाता में प्रकाशित किया गया | 89 टिप्पणियाँ

एक चोखेर चर्चा..

कहने को आप कह सकते हैं कि इस मंच का इस्तेमाल किया जा रहा है , सो ठीक ही कहेंगे आप सुधिजन ! पर हम भी आदत से मजबूर ठहरे । इस मुश्किल वक़्त में जब कि कोसी विनाश लीला … पढना जारी रखे

सुजाता में प्रकाशित किया गया | 10 टिप्पणियाँ