Category Archives: रविरतलामी

(तथाकथित, अन्यभू) महागुरू चर्चाकार की ऐतिहासिक आखिरी ब्लॉग-चर्चा…

पिछले रविवार की चर्चा करते वक्त भूलवश रविवार की शेड्यूल्ड पोस्ट शनिवार को छप गई. सामूहिक प्रकल्पों में इस तरह की त्रुटियाँ कभी कभार हाइड्रोजन बम की तरह धमाका कर जाती हैं. तो, भाइयों ने इसे इंटेंशनल समझ लिया. किसी … पढना जारी रखे

रविरतलामी में प्रकाशित किया गया | टिप्पणी करे

समाचार ब्लॉग या ब्लॉग समाचार?

(सभी से क्षमा याचना – ब्लॉगर की डेट सेटिंग में हुई भूल से यह पोस्ट कल की बजाए आज प्रकाशित हो गई है. इसे कल के लिए रीशेड्यूल तो किया है, पर पुरानी डेट पर प्रकाशित रीशेड्यूल्ड ब्लॉगर पोस्टें हटती … पढना जारी रखे

रविरतलामी में प्रकाशित किया गया | टिप्पणी करे

स्वतंत्रता की नई चादर फिर से बुननी होगी…

ऐसा नहीं लगता कि स्वतंत्रता की ये चादर नए सिरे से बुननी चाहिए? हममें से अधिकांश को ऐसा लगता होगा. पेश है स्वतंत्रता दिवस पर आम भारतीय की पीड़ा व्यक्त करती कुछ ऐसी ही ब्लॉग पोस्टें: सन ४७ से धुनी … पढना जारी रखे

रविरतलामी में प्रकाशित किया गया | टिप्पणी करे

चर्चा ब्लॉगों की – बरास्ते पंजाब स्क्रीन

रेक्टर कथूरिया (पंजाब स्क्रीन पर ब्लॉग से नामक विषय पर रेक्टर कथूरिया द्वारा बढ़िया ब्लॉग चर्चाएँ हुई हैं. आज की चिट्ठा चर्चा साभार पंजाब स्क्रीन) चर्चा ब्लागों की डाक्टर हरदीप कौर संधू ब्लॉग की दुनिया सुंदर भी हो रही, विशाल … पढना जारी रखे

रविरतलामी में प्रकाशित किया गया | टिप्पणी करे

हिंदी सबके लिए

लीजिए, आज आपके लिए पेश है हिंदी संबंधी ढेरों कड़ियाँ. साभार हिंदी सबके लिए. बहुत सी नई कड़ियाँ भी हैं. उम्मीद है,  आपके लिए कोई न कोई कड़ी काम की होगी ही – · प्रबोध, प्रवीण, प्राज्ञ ऑनलाइन परीक्षाओं की … पढना जारी रखे

रविरतलामी में प्रकाशित किया गया | टिप्पणी करे

बरसाती ब्लॉग

एनीमेशन – साभार पिम्प मायस्पेस   नौरंगी बारिश अब साहित्य के नौ रससे रंगी ये बारिश ….. शांत रस बनकर टिप टिप कर बरस जाती है श्रृंगार रस बन सज जाती है हरी चद्दरसी धरती का आँचल बन … गरज … पढना जारी रखे

रविरतलामी में प्रकाशित किया गया | टिप्पणी करे

बाल सजग – ईंट भट्टों पर काम करने वाले मजदूरों के बच्चों का एक अतिसुंदर कोना

हिन्दी चिट्ठों में अब नए, नायाब और विशिष्ट प्रयास हो रहे हैं. बाल सजग इसका एक उत्कृष्ट उदाहरण है. बाल सजग के बारे में चिट्ठे पर लिखा गया है –   “बाल सजग एक हकीकत भरा प्रयास… जिसके लिए हम … पढना जारी रखे

रविरतलामी में प्रकाशित किया गया | 11 टिप्पणियाँ

बे मौसम की होली : कोई नहीं है प्रियतम, पर कई हैं सहेली, क्या यह साल लाएगा जीवन में प्यार?

यदा कदा बे-मौसम होली भी खेलना चाहिए. जैसे कि अर्पिता खेल रही हैं. कुछ दिनों पहले उन्होंने होली खेली – साल का यह दिन, जब आती है होली, ऐसा कभी नहीं हुआ जब मैंने होली नहीं खेली. मुझे पसंद है … पढना जारी रखे

रविरतलामी में प्रकाशित किया गया | 4 टिप्पणियाँ

यही तो है असली ब्लॉगिंग…

असली ब्लॉगिंग के अपनी तरह के सैकड़ों, वाजिब उदाहरण हो सकते हैं. एक उदाहरण आपके सामने पेश है. सिंह सदन नाम का एक घर है. उस घर के सदस्यों का एक ब्लॉग है – सिंह सदन – ए हट अंडर … पढना जारी रखे

रविरतलामी में प्रकाशित किया गया | 20 टिप्पणियाँ

ब्लॉग ऑफ ए थिंकिंग डॉग

ये धोबी का कुत्ता (भई, ब्लॉग पता में तो यही लिखा है – http://washermansdog.blogspot.com ) तो बहुत बढ़िया भौंकता है. इनकी एक लंबी सी, मगर बेहद मार्मिक पोस्ट माँ को गए 3 वर्ष हो गए पर पढ़िये. इधर बिहारी बाबू … पढना जारी रखे

रविरतलामी में प्रकाशित किया गया | 10 टिप्पणियाँ