Category Archives: नीलिमा

वोट से बनो कि बिन वोट पप्‍पू तो तुम्‍हें ही बनना है

हमारा मानना रहा है कि भारतीय राजनीति और कला का बहुत गहरा नाता है ! जब जब राजनीति में सरगर्मियां और हलचल बढती है कला की सभी विधाओं में रचनात्मक उर्जा बढी हुई दिखाई देने लगती है ! खासकर ब्लॉग … पढना जारी रखे

नीलिमा, chitha charcha, chithacharcha, chithha charcha, chitthacharcha, neelima में प्रकाशित किया गया | 10 टिप्पणियाँ

जब मोदी की चरितावली ने हमें मुदित किया

नरेन्द्र मोदी पर लिखी दो पोस्टें जब ब्लॉगवाणी की हिट – लिस्ट में सबसे ऊपर चढी देखीं ! देखकर लगा कि अपने छात्रों को ब्याजनिंदा और ब्याजस्तुति अलंकार पढाने के लिए ये उदाहरण हार्डकॉपी पर ले जाऎंगे ! नरेन्द्र मोदी … पढना जारी रखे

नीलिमा, chitthacharcha, neelima में प्रकाशित किया गया | 10 टिप्पणियाँ

चिट्ठाचर्चा इस्‍टेशन पर इतवारी खोमचा

भई जे तो बहुत नाएंसाफी है हमारे साथ ! आप तो मनावें छुट्टी और हम बैठे करें चिट्ठाचरचा ! बाल बच्चे पति को ब्रेड खिलाकर हम सुबह सबेरे जुट जाऎं चिट्ठों का सनीचरी लिफाफा खोलके , लिखें और दें लिंक … पढना जारी रखे

नीलिमा, chitha charcha, neelima में प्रकाशित किया गया | 4 टिप्पणियाँ

एक डुबकी दार्शनिक व्यंग्यवाद की निर्मल स्रोतस्विनी में

आज मन जरा दार्शनिक हो चला है ! दूरदर्शन के जमाने भी एक बार यह तकलीफ हम झेल चुके हैं , सो बेखटके कह सकते हैं की जाके पैर न फटी बिवाई सो क्या जाने पीर पराई ! दर्शन भी … पढना जारी रखे

चिट्ठा चर्चा, नीलिमा, chitha charcha, chithacharcha, neelima में प्रकाशित किया गया | 4 टिप्पणियाँ

महिला चिट्ठाचर्चाकार की शुरुआती पारी

लीजिए इस महिला चिट्ठाचर्चाकार की मेडन पोस्‍ट हाजिर है। आज आप सबों की चर्चा करने का सौभाग्‍य मुझे प्राप्‍त होने का समाचार मेरी रसोई के बेलन चकले, कड़ाही, साग सब्जियों, बच्‍चों, कामवाली बाई, कॉलेज की पुस्‍तकों और पतिश्री को मिला … पढना जारी रखे

चिट्ठाचर्चा, नीलिमा, रविवार, neelima में प्रकाशित किया गया | 13 टिप्पणियाँ