Category Archives: डॉ .अनुराग

"मी विनायक सेन बोलतो "

पूने के उस सभागार में हेयर ट्रांसप्लां टेशन का अपना पेपर प्रजेंट करने के बाद अपने प्रशंसको के बीच बैठे डॉ मेहता अचानक अपनी तारीफ सुनकर भावुक हो उठे है .”.हम सब बहुत बौने लोग है   जिनके आसमान की हदे … पढना जारी रखे

डॉ .अनुराग में प्रकाशित किया गया | टिप्पणी करे

यहां वहां से उठाकर रखे कुछ अधूरे पूरे सफ्हे

शब्द शब्द होते है …उन्हें किसी लिबास की आवश्यकता क्यों……न किसी नेमप्लेट की…….कभी कभी उन्हें गर यूं ही उधेड़ कर सामने रखा जाए तो…….(एक) हर दिन की तरह, अल्सुबह की नरमी आँखों में भारती रही, दोपहर का सूरज चटकता रहा … पढना जारी रखे

डॉ .अनुराग में प्रकाशित किया गया | टिप्पणी करे

माचिस एक आग का घर है…..जिसमें बावन सिपाही रह्ते हैं.

लिखते रहना एक अच्छी जिद है ….किताबी पन्नो के बरक्स कंप्यूटर भी बड़ी  सहूलियत से किसी   भी वक़्त अपने स्क्रीन पर बहुत कुछ अच्छा लिखा दिखा सकता है .टेक्नो लोजी ने  पाठको को न केवल बढाया है ..अलबत्ता परस्पर … पढना जारी रखे

डॉ .अनुराग में प्रकाशित किया गया | टिप्पणी करे

सस्ते पैनो से भी लिखी जा सकती है अच्छी कविता…….

प्लेटफोर्म पर किताबो में सर गडाए बैठी है कुछ .ये कवियों के प्रेम की शिकार महिलाए है जो खूब किताबे पढ़ती है ओर रोते रोते कवियों को गालिया दिया करती है ………………..अच्छी चीजों से जुड़ा सबसे बड़ा विकार है की … पढना जारी रखे

डॉ .अनुराग में प्रकाशित किया गया | टिप्पणी करे

साइबर संसार कितना "हेंडी" है …….

रजनीश ने एक बड़ी मजेदार बात कही थी….की बेईमान कभी ईमानदार से ईष्या नहीं रखता …..ओर ईमानदार हमेशा बेईमानो से ईष्या रखते है …क्यूंकि बेईमान अपनी बेईमानी में जितना साहसी है ईमानदार अपनी ईमानदारी में उतना साहसी नहीं है …..देर … पढना जारी रखे

डॉ .अनुराग में प्रकाशित किया गया | 17 टिप्पणियाँ

बौद्धिक ऐयाशी के बाय प्रोडक्ट्स ?ओर फ्लेश्बेक से दो पन्ने

मै बचपन से ही फाइटर रहा हूँ ..ओर मुश्किल समय में मुस्कराना मैंने नेहरु से सीखा है ….बकोल राठोर ये दोनों इसी व्यवस्था के वे ट्रांसपेरेंट चेहरे है जहाँ दूसरी ओर जीने के बड़े हिस्से पर ताकतवर लोगो के कब्जे … पढना जारी रखे

डॉ .अनुराग में प्रकाशित किया गया | 20 टिप्पणियाँ