Category Archives: चिट्ठाचर्चा

अपनी ही तुच्छताओं की अधीनता

आज यद्यपि मुझे यात्रा पर निकलना है और प्रातः ४.३० बजे बैठ कर चर्चा शुरू करने की इस घड़ी में अभी यह भी नहीं पता कि कितना लिखा जा सकेगा। स्पोंडेलाइटिस के गंभीर कष्ट से १० घंटे से परेशान हूँ … पढना जारी रखे

चिट्ठाचर्चा, हिन्दी, हिन्दी चिट्ठाचर्चा, Blogger, chitthacharcha, criticism, Kavita Vachaknavee में प्रकाशित किया गया | 17 टिप्पणियाँ

चर्चा ऑन डिमाण्ड

ऑन डिमाण्ड चिट्ठा चर्चा में स्वागत आप सभी का । कुछ ना कुछ तो होता ही है तथ्य आज ही सीखा ।।बच्चों को क्या पढा रहे आलोक पुराणिक देखा ?पकडे कुछ राष्ट्रीय निकम्मे पढ लें पूरा लेखा ।। ताऊ की … पढना जारी रखे

चर्चा ऑन डिमाण्ड, चिट्ठाचर्चा, विवेक में प्रकाशित किया गया | 14 टिप्पणियाँ

हल्की शीत की उत्तरभारतीय सिहरन के बीच : अपनी आग में निरंतर दहक रहा देश

रविवार की इस नौ नवंबरी प्रभात की वेला में हल्की शीत की उत्तरभारतीय सिहरन के बीच घरों के दुशाले, कम्बल, शाल, निकालते-ओढ़ते-पहनते भारतवासियों का देश अपनी आग में निरंतर दहक रहा है; जबकि पूरे देश को एक करने वाली शीत … पढना जारी रखे

चिट्ठाचर्चा, रविवार, रविवार्ता, हिन्दी चिट्ठाचर्चा, chithacharcha, hindiblogs, Kavita Vachaknavee में प्रकाशित किया गया | 13 टिप्पणियाँ

रविवार्ता का उत्तरपक्ष और `बीजल चिट्ठी’

कल की चर्चा पर आई सभी साथियों की टिप्पणियों के प्रति आभार व्यक्त करते हुए यह स्पष्ट कर देना आवश्यक लगा कि उसमें बात चिट्ठाचर्चा के नाम में परिवर्तन की नहीं की गयी, अपितु हिन्दीभाषा के शब्दकोष को समृद्ध करने … पढना जारी रखे

चिट्ठाचर्चा, रविवार्ता, हिन्दी चिट्ठाचर्चा, chitthacharcha, hindiblogs, Kavita Vachaknavee में प्रकाशित किया गया | 16 टिप्पणियाँ

रविवार्ता : वाह सजण….. वाह सजण

यह सप्ताह बड़ा उथल पुथल वाला रहा है। भारत में लगता है कि लगभग गृहयुद्ध की -सी स्थितियाँ आ गई हैं। एक ओर जहाँ कुछ माह पूर्व हिन्दी भाषियों की हत्याओं का सिलसिला था, वहाँ एक पर एक बम विस्फोट … पढना जारी रखे

चिट्ठाचर्चा, हिन्दी चिट्ठाचर्चा, chitthacharcha, criticism, hindiblogs, Kavita Vachaknavee में प्रकाशित किया गया | 13 टिप्पणियाँ

आज एक बहुत बढ़िया पोस्ट पढ़ी

आजकल व्यवसायिक कारणों से चिट्ठे पढ़ने का समय नहीं मिल पाता, परन्तु मैने जीमेल/क्लिप्स में भी अपनी पसंसीदा चिट्ठों और एग्रीग्रेटर का लिंक जोड़ रखा है सो सूचनायें कभी कभार मिल जाती है। आज सुबह मेल चैक करते ही जीमेल … पढना जारी रखे

चिट्ठा चर्चा, चिट्ठाचर्चा, सागर चन्द नाहर, Sagar Chand Nahar में प्रकाशित किया गया | 2 टिप्पणियाँ

फक्त तुझ्याचसाठी

लो जी ब्लागवाणी का नया संस्करण. मराठी में. और यह संदेश है कि कृपया आमचा व्यापर करा. मेरे लिए तो बहुत मजा हो गया. मराठी भूल रहा था अब रवां हो जाएगा. और चिट्ठाचर्चा में जल्द ही मैं मराठी चिट्ठों … पढना जारी रखे

चिट्ठाचर्चा, संजय तिवारी में प्रकाशित किया गया | 9 टिप्पणियाँ