Category Archives: चर्चा

बरखा प्रभाव – स्ट्राइसेंड प्रभाव को देसी नाम मिला

यह चर्चा आलोक कुमार ने मुझे डाक से भेज आदेश दिया की एक फरवरी को छापा जाए, वजह उन का “चौडाबाजा” (ब्राडबैंड) बज नहीं रहा। कोई भूल चूक लेनी देनी हो तो उन को बताया जाए, अपना काम खत्म। विपुल … पढना जारी रखे

Advertisement

आलोक, चर्चा, रविवार में प्रकाशित किया गया | 15 टिप्पणियां

पूरा विश्वास उठ चुका है!!!

फुरसतिया जी का हम पर से पूरा विश्वास उठ चुका है. उठ भी जाना चाहिये. ऐसी हरकत बार बार कि अभी चर्चा कर रहे हैं, करते हैं, करेंगे और फिर नहीं कर पायेंगे कब तक कोई झेले. मगर हमारी भी … पढना जारी रखे

उड़न तश्तरी, चर्चा, चिट्ठा चर्चा, समीर लाल, Blogger, chitha charcha, chithacharcha, chithha charcha, sameer lal में प्रकाशित किया गया | 17 टिप्पणियां

चर्चा : लाशों पर लाठीचार्ज?

साथियों मैं आपका दोस्त जीतेन्द्र चौधरी हाजिर हूँ बुधवार यानि दिनांक 14 मार्च 2007 को लिखे गए चिट्ठों की चर्चा को लेकर। आज के दिन काफी चिट्ठे लिखे गए जिनका लेखा जोखा यहाँ पर मौजूद है। मै छांव छाव चल … पढना जारी रखे

चर्चा, चिट्ठा चर्चा, चिट्ठाचर्चा, हिन्दी चिट्ठाचर्चा में प्रकाशित किया गया | 3 टिप्पणियां

कट गई अरमानों की पतंग

चिट्ठाचर्चा के रूपाकार को लेकर चर्चाओं का दौर जारी है, और यह जारी रहनी चाहिए ताकि हमेशा कुछ अच्छा कुछ नया सा होता रहे. आइए, सबसे पहले नए चिट्ठों का स्वागत करें, जो, हो सकता है नए तो न हों, … पढना जारी रखे

चर्चा, चिट्ठा चर्चा, चिट्ठाचर्चा, हिन्दी चिट्ठाचर्चा में प्रकाशित किया गया | 3 टिप्पणियां

रविवारीय चिट्ठा चर्चा:

साथियों, आपका दोस्त जितेन्द्र चौधरी हाजिर है शनिवार के चिट्ठों की चर्चा के साथ। आज की चर्चा शुरु करने से पहले मै कुछ निवेदन करना चाहूंगा। हम चिट्ठा चर्चा कर रहे है, जितनी छोटी,संक्षिप्त और बिन्दुवार होगी उतने ज्यादा लोग … पढना जारी रखे

चर्चा, चिट्ठा चर्चा, चिट्ठाचर्चा, हिन्दी, हिन्दी चिट्ठाचर्चा में प्रकाशित किया गया | 10 टिप्पणियां

गाँधीजी का न्यासिता (ट्रस्टीशिप) संबंधी सिद्धांत

गाँधी जी पुण्य स्मरण करते हुये आज की चर्चा प्रारंभ कर रहा हूँ. १२ जनवरी से शुरु हुई जद्दो जेहद को आज अंजाम पाते देख खुशी से आँख छलक आई. इसे कहते हैं कि अगर जज्बा हो तो मंजिल पाने … पढना जारी रखे

चर्चा में प्रकाशित किया गया | 3 टिप्पणियां

उफ्फ!!ये कहाँ आ गये हम

सन १९८१ में एक फिल्म आई थी ‘सिलसिला’. अमिताभ और रेखा मुख्य कलाकार थे. याद आता है वो कशिश भरा गीत, जब अमिताभ अपनी स्थितियों को यूँ शब्द देते हैं: मैं और मेरी तन्हाई, अक्सर ये बातें करते हैं,तुम होती … पढना जारी रखे

चर्चा में प्रकाशित किया गया | 10 टिप्पणियां

यह अच्छी बात नहीं!!

सबसे पहले डा बृजेन्द्र अवस्थी को हिन्दी चिट्ठाजगत की तरफ से भावभीनी श्रद्धान्जलि. अभिनव शुक्ला जी ने डा बृजेन्द्र अवस्थी को श्रद्धान्जलि देते हुये अपना संस्मरण लिखा है और अगले शनिवार को श्रद्धान्जलि सभा का आयोजन किया है. डा बृजेन्द्र … पढना जारी रखे

चर्चा में प्रकाशित किया गया | 15 टिप्पणियां

सद्दाम का असहनशील भारत

सद्दाम को फ़ांसी दे दी गई. दो हफ़्ता गुजर गया. परंतु उसके विरोध में भारत में प्रदर्शन जारी है. मौलाना मुलायम निठारी छोड़कर दिल्ली में प्रदर्शन करते पाए गए थे और हाल ही में बैंगलोर में हिंसक प्रदर्शनों के दौर … पढना जारी रखे

चर्चा, चिट्ठा चर्चा, चिट्ठाचर्चा, हिन्दी, हिन्दी चिट्ठाचर्चा, chithha charcha, hindiblogs में प्रकाशित किया गया | 3 टिप्पणियां

बसंती की अम्मा

कभी कभी दिल, आखिर दिल ही तो है, अपनी उड़ान भरने का मन बना ही लेता है और हमारी दिलेरी, कि हम अपने चैट द्वार पर उसका बोर्ड भी लगा दिये कि “एक आग का दरिया है और डूब के … पढना जारी रखे

चर्चा में प्रकाशित किया गया | 6 टिप्पणियां