पुराने डायरी का पन्ना डायरी से निकलकर नेट पर पहुंचा। कांधे से तिल बरामद!

 
1.पर्यटन क्या है? : खबरदार जो किसी ने बताया कि सूटकेस भर कर घर लौटना पर्यटन है।
2.फ़ुरसत में… भ्रष्‍टाचार पर बतिया ही लूँ !: अरे बतियाते रहेंगे कि कुछ अंजाम भी देंगे।


3.……….क्या चीज है यह जिंदगी ?: बूझॊ तो जानें
4.काश्मीर को आज़ाद होना चाहिए — भूखे नंगे हिंदुस्तान से — अरुंधती रॉय: का ही जुमला हो सकता है यह!
5.एक ठो कुत्ता रहा …:ऊ भर जिंदगी खंभा खोजता रहा। 
6.हिन्दी न्यूज़ चैनलों की घड़ी ठीक हो गई क्या?: घड़ी का छोड़िये लोग वक्त बदलने की मांग कर रहे हैं।
7.मुखरित मौन …: शब्द का बहिष्कार!
8.हम तो हैं मुसाफिर….: टिप्पणी की तलाश में!
9.सरदार पटेल को याद करें: एक दिन की ही तो बात है कर लेते हैं।
10.पुराने डायरी का पन्ना: डायरी से निकलकर नेट पर पहुंचा। कांधे से तिल बरामद!
11.निशाचरण: रे दुखवा रे जा जा ओ रतिया के छैला
12.प्रभा खेतान और ‘पीली आंधी’: शब्दों के सफ़र पर।

 13.फ़िक्शन: छत पर चांदनी और हमारी बेगम अख्तर!

14.” पल जो हमने साथ गुजारे थे.. “: अब उनका कापी पेस्ट हो रहा है।
15.इस हमाम में सभी नंगे हैं: और पानी का कहीं अता-पता नहीं।


16.शरद ऋतु में काव्य खिलता है: ठिठुरते हुये?

17.मेरी प्रेम कुटी में आना: रोने का इंतजाम पूरा है वहां!

18.वर्धा-हिंदी का ब्लॉगर बड़ा शरीफ़ टाइप का जीव होता है: जरा-जरा सी बात पर खुश हो जाता है।

19.दुनिया का सबसे अच्छा संदेश…खुशदीप: के अलावा कौन दे सकता है।

20.नमस्कार !: बीस पोस्ट में अंतिम नमस्कार! बड़ा तेज ब्लॉग है।

21.“घर से ऑफिस के बीच”: एक बेचारा नौकरी शुदा आदमी फ़ंस गया।

About bhaikush

attractive,having a good smile
यह प्रविष्टि Uncategorized में पोस्ट की गई थी। बुकमार्क करें पर्मालिंक

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s