…… नन्हें फूलों से महकी गलियाँ हैं

 

 

 

मराठी भाई लोग उत्तर प्रदेश वालों की हर जगह लगता है ऐसी कम तैसी करने पर आमादा हैं। सचिन भाई साहब को बाला साहब कुछ कहे-सुने तो सचिन उहां तो कुछ नहीं बोले। बोले भी तो होंगे तो हमें सुनाई नहीं दिया। लेकिन कानपुर में कल ग्रीन पार्क में उनके एक फ़ैन की बेइज्जती खराब कर दी तो सचिन भाई साहब तमतमा गये। फ़ैन का नाम है सुधीर कुमार निगम। उनको ब्लास्टर साहब एक ठो शंख दिये हैं जिसे वे हर मैदान में बजाते रहते हैं। कानपुर में पुलिस ने उनको दौड़ा लिया और शंख बजाने वाले का बाजा बजा दिया। इससे सचिन खफ़ा हो गये और देखिये अखबार कहता है–  “भारतीय टीम की हौसला आफ़जाई करने वाले सुधीर कुमार निगम की पुलिस के हाथों बेइज्जती सचिन को नागवार गुजरी।  सचिन को इसकी भनक लग जाने पर प्रशासन के हाथ-पैर फ़ूल गये। जानकारी मिलते ही आईजी व डीआईजी सक्रिय हुये और न केवल सुधीर को तिरंग व शंख वापस दिलाया बल्कि ससम्मान उन्हें स्टेडियम के भीतर ले जाया गया। आईजी ने मामले की जांच बैठी दी है। सचिन के माफ़ करने पर प्रशासन ने राहत की सांस ली है।”

सचिन असल में कानपुरियों को हड़काने का बहाना खोज रहे थे। मुंबई में ठाकरे उनको गावस्कर जी से तुलना करके चिढ़ाये तो सचिन भरे तो बैठे ही होंगे। कानपुर में मौका मिलते ही (गावस्कर के ससुरालियों) कानपुरियों को हड़का दिया। हिसाब बराबर हो गया। इसे कहते हैं धोबी से जीते न पावै गदहा के कान उमेठे।

मजे की बात पुलिस वालों के हाथ-पांव एक दिन पहले इस बात पर फ़ूले थे कि एक आदमी पिच तक पहुंच गया। अगले दिन उसके हाथ इस बात पर फ़ूल गये कि एक फ़ैन को मैदान पर नहीं जाने दिया। आफ़त है पुलिस की। घुसने पर भी हाथ पैर फ़ूले। न घुसने पर भी। पुलिस के हाथ-पैर रोज ब रोज फ़ूलते जाते हैं। इसीलिये लगता है वह अपराधियों को दौड़ा नहीं पाती।

बहरहाल बड़े लोगों की बड़ी बातें। हम चर्चा का काम करते हैं। न किये तो कोई इसी बात पर तमतमा सकता है और हमारे हाथ-पांव फ़ुला सकता है।

समसामयिक घटनाओं पर ब्लाग जगत में कुछ  बेहतरीन प्रतिक्रियायें होती हैं। कभी-कभी उतनी सटीक प्रतिक्रियायें अखबार  और टेलिविजन पर भी नहीं दिखतीं। ऐसी ही एक प्रतिक्रिया संजय बेंगाणी की थी जब उन्होंने हिन्दी पर शपथ लेने पर हुई मारपीट को हिंदी विरोध और  मराठी अस्मिता की लड़ाई के बजाय दो गुण्डों की आपसी राजनीतिक लड़ाई बताया। कुछ ऐसा ही मुझे विनीत की रपट देखकर लगा जब उन्होंने IBN7 पर शिवसैनिकों के हमले की निन्दा करते हुये अपनी बात कही—-IBN7 पर हमला लोकतंत्र पर हमला नहीं है!  इस तरह के लेख देखकर ब्लाग जगत की परिपक्वता और समझ का अंदाजा लगताहै।

image मैं जिस तरह हिन्दु धर्म के लिए लंपट   भगवाधारियों के साथ खड़ा नहीं हो सकता है वैसे ही हिन्दी के लिए आजमी और मराठी के लिए राज के साथ खड़ा नहीं हो सकता. दोनो भाषाओं को ही इन जैसे लोगों की जरूरत नहीं है. संजय बेंगाणी

इसी क्रम में देखिये अनूप सेठी जी का लेख–भाषा को हमने जीवन में जगह नहीं दी


image देश की सत्तर फीसदी आबादी को जब पीने को पानी नहीं है, बच्चों के हाथों में स्लेट नहीं है, स्त्रियों की आंखों में सपने नहीं है – टेलीविजन पर कीनले है, विसलरी है, पॉकेमॉन है, बार्बी है, मानव रचना यूनिवर्सिटी है, लक्मे है, झुर्रियों को हटाने के लिए पॉन्डस है। एक धब्बेदार, बदबूदार और लाचार लोकतंत्र टेलीविज़न पर आते ही चमकीला हो उठता है। पिक्चर ट्यूब से गुज़रते ही देश का सारा मटमैलापन साफ हो जाता है। सवाल यहां बनते हैं कि टेलीविज़न के दम पर जो आइस संस्कृति (information, entertainment, consumerism) एक ठंडी संस्कृति के बतौर पनप रही है, क्या उसी लोकतंत्र पर हमला हो रहा है और उसी को बचाये जाने की बात की जा रही है?

विनीत कुमार

image चंदू  भैया कम क्या ब्लाग के हिसाब से बहुत कम लिखते हैं। कल जब लिखे तो भाषा विमर्श नुमा कर गये। चेतन भगत के हवाले से चंद्रभूषण जी कहते हैं:चर्चित उपन्यासकार चेतन भगत ने भारत में अंग्रेजी अपनाने वालों की दो किस्में बताई हैं। एक ई-1, यानी वे, जिनके मां-बाप अंग्रेजी बोलते रहे हैं, जिनका बोलने का लहजा अंग्रेजों जैसा हो गया है और जो सोचते भी अंग्रेजी में हैं। दूसरे ई-2, यानी वे, जिन्होंने निजी कोशिशों से अंग्रेजी सीखी है और जिनका अंग्रेजी बोलना या लिखना हमेशा अनुवाद जैसा अटकता हुआ होता है। भगत का कहना है कि वे अपने पाठक ई-1 के बजाय ई-2 में खोजते हैं, और भारत में अंग्रेजी का भविष्य भी इसी वर्ग पर निर्भर करता है। हिंदी, अंग्रेजी के कई क्रमचय-संचय बताने के बाद वे अपने परिवार के भाषाई ताने-बाने की जानकारी देते हैं:किसी धौंस, अनुशासन या मजबूरी के तहत नहीं, सहज जीवनचर्या के तहत अंग्रेजी अपना कर उसी में सोचने-समझने और मजे करने वाली कोई पीढ़ी मेरे परिवार में अब तक नहीं आई है। अमेरिका, इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया में रह रहे सबसे नई पीढ़ी के छह-सात लड़के, लड़कियां और बहुएं अंग्रेजी में लिखते-पढ़ते जरूर हैं, लेकिन इसके लिए मेरे चाचा और उनके बेटे-बेटियों की तरह कई साल तक सचेत ढंग से हिंदी से कटकर अंग्रेज बनने की जरूरत उन्हें कभी नहीं पड़ी। वे इंजीनियर, डॉक्टर या सीए होकर ग्लोबल हुए हैं, अंग्रेज होकर नहीं। उन्हें पता है कि अंग्रेजी का दखल उनकी जिंदगी में कहां शुरू होता है और कहां पहुंच कर खत्म हो जाता है।
image हावर्ड फ़्रास्ट का उपन्यास स्पार्टाकस में रोम के गुलामों के विद्रोह की कहानी है। कम्युनिष्ट विचारधारा के मानने वालों के बीच बेहद लोकप्रिय इस उपन्यास का बेहतरीन हिन्दी अनुवाद अदि विद्रोही के नाम से अमृतराय ने किया है। इस अनुवाद को साहित्य अकादमी पुरस्कार मिला था। शरद कोकास जी इस स्पार्टाकस की कहानी सुनाते हैं आज की अपनी पोस्ट में। वे गुलामों के जीवन के बारे में जानकारी देते हुये लिखते हैं:

फिर सुबह होगी नगाड़े की आवाज़ के साथ ..सबको ज़ंजीरों में बान्धकर ले जाया जायेगा ।वे अपना प्याला और कटोरा साथ रखेंगे …ठंड से काँपते हुए अपने नंगे बदन को हाथों से ढाँपने की कोशिश करते हुए वे अपनी जानवरों से भी बदतर ज़िन्दगी के बारे में सोचेंगे और फिर उन चट्टानों पर कुदाल और हथौडे चलायेंगे जो उनके मालिकों को सोना देती हैं । पसीने से तरबतर गुलाम जो महीनों से नहाये नहीं हैं ,चार घंटे बिना रुके काम करेंगे ,हाथ रोकते ही उन्हे कोड़ों से पीटा जायेगा .. इस तरह चार घंटे तक उनके शरीर का पानी पसीना बनकर निकल चुका होगा , उन्हे खाना और पानी दिया जायेगा , जो गट गट पानी पीने की गलती करेगा पछतायेगा क्योंकि पेशाब बनकर पानी निकल जाने के बाद काम खत्म होने तक दोबारा नहीं मिलेगा ..लेकिन इस प्यास का क्या करें ..कैसी मजबूरी है यह .. पानी पिये तो भी मौत नहीं पियें तो भी मौत …।

अजित वडनेरकर ने इस पोस्ट पर टिपियाते हुये लिखा:

आदि विद्रोही याद आ गई। हर सम्प्रभुता बर्बर ही होती है।
दुखद यह है कि श्रम को भी बर्बरता का गुण समझा जाता रहा है। श्रम प्रबंधन को संस्कृति का नाम दिया गया।
चाहे श्रमप्रबंधन के तरीके अमानुषिक ही क्यों न रहे हों।
सलाम है उन मूक-मानवों को जिनके पसीने की बूंदें, हथोड़ी की धमक और बेडियों की कड़कड़ाहट आज एक से एक खूबसूरत स्मारकों में तब्दील हो चुकी है। बर्बरता का दूसरा रूप यह है कि इन स्मारकों पर निर्माणकर्ता के तौर पर उन्हीं साम्रज्यवादियों के नाम अंकित हैं जबकि आज लोकतांत्रिक शासन लगभग सब कहीं है।

image समीरलाल ने तय किया है कि वे अब कुछ दिन कनाड़ा के मौसम बने रहेंगे। ठंडे उदास। उस पर भी ठ्सका ये कि सवाल पूछकर उदासी — 
मायूस होना अच्छा लगता है क्या? मतलब कि मैं पीता नहीं पिलाई गयी है वाले अंदाज में कहते हैं कि हम कोई अपने मन से उदास थोड़ी हैं। वाह भाई!

अरविन्द मिश्र इनकी इस पोस्ट पर फ़र्माते हैं—-यह आत्म प्रवंचना ,आत्मालाप क्यूं इन दिनों प्रायः -सब कुछ ठीक ठाक तो हैं ना ?

वहीं अभिषेक ओझा कहते हैं: आज बहुत दिनों के बाद फिर अपने दिल की बात मिली. मायूस और मिस करने वाली बात ! जब टेम्पो, चलाने वाले की गाली और उसमें बजने वाले १०रुपये वाले कैसेट के गाने तक इंसान मिस करता है तो क्या कहूं. वो सब जिसे कभी गाली दिया करते थे आज मिस करते हैं ! बताइए तो.

image जिस कनाडा में समीरलाल उदासी का पल्लू थामे हैं उस धरती पर मानसी फ़ूल जैसे बच्चों के बीच खिलती हुई सी कहानियां लिख रही हैं! बच्चों के किस्से सुनाते हुये वे लिखती हैं:मुझे हँसी आई, और मैंने कहा, "व्हाट इज़ इट हनी? " तो उस बच्ची ने अपनी किताब दिखाई, परी कथा थम्बलीना की कहानी में, आखिरी पन्ने पर राजकुमार और राजकुमारी पास-पास खड़े थे। वो कहने लगी, "दे आर किसिंग" । मैंने कहा, :" नो दे आर नाट…, दे आर स्टैंडिंग"। बच्ची ने थोड़े ध्यान से उस तस्वीर को फिर देखा और मुझे समझाते हुए कहा," येस, बट दे आर गोंइंग टु किस आफ़्टर" – (बस मन में यही कह पाई- जी अच्छा दादी अम्मा)

आप देखिये तो सही कित्ते तो फ़ूल खिले हैं इस खूबसूरत पोस्ट में। समीरलाल को भी कुछ दिन खाता-बही छोड़कर बच्चों के बीच रहना चाहिये। न खाता न बही, जो बच्चे कहें वो सही।

   image
बच्चे दुनिया की तमाम चीजों को अपने नजरिये से देखते हैं। सैकड़ों सालों से चले आ रहे मिथकों पर सवाल उठाते हैं। गांधारी अपने पति जैसा बनने के बजाय अपने बच्चों को अच्छी तरह पालती-पोसती तो शायद ज्यादा अच्छा रहता। राम सीता के ऊपर लांछन लगने पर उनको त्यागने के बजाय लांछन लगाने वाले से पूछताछ करते/समझाइस या दंडित करते तो बेहतर होता। ये सब बातें बच्चे सुझाते हैं। सुधा सावंत के लेख को प्रस्तुत किया है कविता वाचक्नवी जी ने। देखिये-
समस्या का समाधान बच्चों का दृष्टिकोण! इस पोस्ट पर !

जन्मदिन मुबारक
आज हमारे दो चर्चाकार साथियों का जन्मदिन है। वे साथी हैं नीलिमा और पंकज। उनके फोटो यहां हैं। साथियों को जन्मदिन की मंगलकामनायें। नीलिमा तो अभी लिखती रहती हैं कभी-कभी लेकिन पंकज बेंगाणी गुम से हो गये हैं।

image
नीलिमा  शायद अगली पोस्ट का मसौदा सोच रही हैं। लेकिन जन्मदिन मुबारक कहने के लिये तो उनको डिस्टर्ब किया ही जा सकता है।
image पंकज बेंगाणी ब्रांड डिजाइन तथा वेब डेवलपमेंट कम्पनी छवि के सीइओ तथा तरकश नेटवर्क के सीइओ एवं सम्पादक हैं. वे हिन्दी एवं अंग्रेजी में ब्लॉगिंग भी करते हैं. ये परिचय लिखा है पंकज के प्रोफ़ाइल में। वे पहले गुजराती चिट्ठों की चर्चा भी करते थे। अब लगता है भौत बिजी हैं और चर्चा के लिये बिल्कुल समय नहीं निकाल पा रहे हैं।
पंकज को जन्मदिन मुबारक।

एक लाईना

  1. फ़ोरेनरों को उनके देश से पढ़ा के भेजा जाता है कि “भारतीय चोर होते हैं”, और वे खुद…:भारतीय जैसा बनने के लिये झपट पड़ते हैं।
  2. क्या हिंदी व्याकरण के कुछ नियम अप्रासंगिक हो चुके हैं?: नियमों की नियति ही है भैया-अप्रासंगिक हो जाना। पुराने अप्रसांगिक होंगे तभैइऐ ने नये बनेंगे।
  3. आस्था आदर्श पर …: तुक मिलाने के लिये खून के धब्बे फ़र्श पर
  4. आँचल और घूंघट: दोनों में कपड़ा लगता है भाई!
  5. चाय तो रोज ही पीते होंगे आप… पर क्या आप जानते हैं कि चाय के पेड़ की उम्र कितनी होती है?: हमें चाय पीने से मतलब है अवधियाजी उमर आप देखें।
  6. श्लील और अश्लील: देखने पर लगा कि अश्लील लिखने में ज्यादा मेहनत होती है। होने में भी होती है क्या?
  7. एक ब्लॉग, ब्लोगर द्वारा, ब्लोगर्स के लिए.: क्या-क्या गुल खिलाये जाते हैं भैया।
  8. खामोश रात में तुम्हारी यादें: बहुत हल्ला मचाती हैं,कवितायें लिखवाती हैं।
  9. और हमारे संचार माध्यम कब सुधरेंगे ?: वे कहते हैं— हम नहीं सुधरेंगे क्या कल्लोगे?
  10. हमारे सांसद, हमारे बच्चे…खुशदीप: सच में? कोई तो कह रहा था कि खुशदीप ब्लागर हैं।
  11. एक जरुरी सुचना सभी कवि लोगो के लिये: अगला शुक्रवार वे कविता का महाभारत रच सकते हैं।
  12. क्या अजय झा और बी.एस.पाबला में पिछले जन्म का कोई रिश्ता है?: काहे को गड़े मुर्दे उखड़वा रहे हो भाई!
  13. ब्लॉगिंग के कीड़े के कारण अपने सारे कमिटमेंन्ट्स की वाट लग गई…: कम से कम अभी दोष देने के लिये कोई कारण तो है।
  14. आज निर्मला कपिला तथा पंकज बेंगाणी का जनमदिन है: नीलिमा को कहां छोड़ दिये भाई!
  15. चाय के बारे में वह सब जो आप नहीं जानते…: वह क्या इस पोस्ट को बांचकर जान जायेंगे।
  16. कविता के सूनसान, मैदान, में..: भाषा के बेस्ट फ़्रेंड से कहा-सुनी।

 

और अंत में: फ़िलहाल इतना ही। आपको आजका दिन मुबारक हो। मौज मजे से रहें। बाकी जो होगा देखा जायेगा।

About bhaikush

attractive,having a good smile
यह प्रविष्टि Uncategorized में पोस्ट की गई थी। बुकमार्क करें पर्मालिंक

…… नन्हें फूलों से महकी गलियाँ हैं को 19 उत्तर

  1. पी.सी.गोदियाल कहते हैं:

    बहुत सुन्दर अनूप जी, चुटकिया बहुत प्यारी मार लेते हो, बधाई !

  2. Anil Pusadkar कहते हैं:

    बढिया चर्चा।नीलिमा जी और पंकज भाई को यंही जन्म दिन की बधाई दे देते हैं।

  3. Neelima कहते हैं:

    धन्यवाद अनूप जी !यूँ एक साल और बूढे हो गए आज का दिन यह याद दिलाता है🙂

  4. विनीत कुमार कहते हैं:

    नीलिमा और पंकज को जन्मदिन की ढेर सारी बधाईयां। खूब सक्रिय हों और लिखते-गुनते रहें। भाषा के सवाल पर अनूप सेठी के विचार को औऱ गहरे जाकर समझने की जरुरत है। अनूपजी ने जिस तरह की चिठ्ठाचर्चा पेश की है उससे एक तरह का मसौदा तैयार होता जान पड़ता है कि अगर कायदे से ब्लॉगिंग की जाए तो सरोकार की गुंजाईश बहुत अधिक है। जो कि बाजार और मुनाफे के दबाब में टेलीविजन,प्रिंट मीडिया से धीरे-धीरे गायब हो रहे हैं।.

  5. बढ़िया चर्चा की है शुक्ल जी!नीलिमा और पंकज के साथ बहिन निर्मला कपिला,पंकज बेंगाणी को भी जन्म-दिन की बधाई देता हूँ!

  6. डा० अमर कुमार कहते हैं:

    बतर्ज़ ’ हम झेल चुके सनम… .. कस्सम तेरी खसम ’ शायद दिल देने का या दिल दिये रहने का तकाज़ा रहा होगातभी तो हम भी झेल गये आज की यह गड्ड-मड्ड चर्चा !

  7. Mithilesh dubey कहते हैं:

    बहुत कुछ समेंटे लाजवाब रही चर्चा ।

  8. ललित शर्मा कहते हैं:

    जानदार शानदार चर्चा-आभार, बधाई,

  9. नीलिमा जी और पंकज जी को जन्मदिन की ढेर सारी बधाईयां।

  10. अर्कजेश कहते हैं:

    सलीके से की गई समीक्षात्‍मक चर्चा । जिस पोस्‍ट को उद्धृत किया जा रहा है, उसकी सामग्री को उद्धरण चिन्‍ह में में रखें तो अच्‍छा रहेगा । जिससे चर्चाकार की बात और जिसकी चर्चा की जा रही है उसकी बात अलग अलग दिखे । नीलमा जी , पंकज जी – जन्‍म दिन मुबारक ।

  11. मनोज कुमार कहते हैं:

    अच्छी और सार्थक च्रर्चा।

  12. cmpershad कहते हैं:

    आज की चर्चा बहुत साहियकाना रही। पुलिस के हाथ पैर फूल गए हैं तो उन्हें सुबह सवेरे हरी दूब में चलना चाहिए:)निर्मलाजी, नीलिमाजी और पंकज जी को जन्मदिन की ढेर सारी बधाइयां॥

  13. Udan Tashtari कहते हैं:

    नीलिमा जी, निर्मला जी, शांति सेठ मास्साब पंकज बैंगाणी को जन्म दिन की बहुत बधाई एवं शुभकामनाएँ.—–अब जा रहे हैं पार्क में बच्चों के साथ खेलने. दफ्तर कल जायेंगे..हा हा!! आज तो दिन भर खेलने के बाद नई पोस्ट लिखी जायेगी. :)—एक लाईना मस्त!!

  14. शरद कोकास कहते हैं:

    धन्यवाद अनूप , हॉवर्ड फ़ास्ट की आदिविद्रोही को इस तरह याद करने के लिये .. मै अगली पोस्ट में इस पर आ ही रहा था । यह पुस्तक पढते हुए रोंगटे खड़े हो जाते है और "ग्लेडियेटर्स के एम्फीथियेटर मे रेत पर खून की बून्द चुगती चिड़िया देख कर कविता खुद ब खुद निकलती है । नीलिमा जी और पंकज को जन्मदिन मुबारक – शरद कोकास

  15. Udan Tashtari कहते हैं:

    आदिविद्रोही किताब हमें २००६ में अनूप जी ने ही कानपुर में भेंट की थी…🙂

  16. अनुपम कृति है "आदिविद्रोही". साधुवाद आपको और शरद जी को. नीलिमा, कपिला जी और पंकज जी को बहुत-बहुत शुभकामनायें.

  17. नीलिमा जी और पंकज जी को जन्मदिन मुबारक!!!स्टाइलिश चर्चा के लिए बधाई!!बाकी जिन मुद्दों को संजय बेंगाणी और विनीत ने उठाया है वही सही दिशा होनी चाहिए उन मुद्दों के प्रति ! बाकी तो सब माया है !!!!

  18. संजय बेंगाणी की बात से सहमत हूं बल्कि मैं तो कभी कभी ये भी सोचता हूं कि क्या हमें भाषाओं की ज़ररूत है भी ? इससे तो हम गूंगे ही कहीं भले होते. और तो और …भाषाओं के बूते देश को अलग अलग राज्यों में विभाजित कर बैठे हुए इन दोगले दुमुंहों की बिसात भी कुछ होती क्या !

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s