चर्चा में केवल एक लाईना

  1. रामप्यारी का सवाल : मुझे राष्ट्रीय संगोष्ठी में क्यों नहीं बुलाया गया?
  2. इलाहाबाद से ’ई’गायब :ब्लाग थाने ने रपट लिखने से इंकार किया
  3. आखिर ब्लॉगर हैं..हर स्थिति में अपना झंडा गडेगा ही. : झंडा बायें कोने में सबसे ऊपर लगाना ताकि उसका अपमान न हो
  4. कब आ रही हो!!:चाय चढ़ा दें तुम्हारे लिये?
  5. बहस कम , चर्चे ज्यादा प्रश्न कम , पर्चे ज्यादा :वो तो ठीक है लेकिन उन दो को क्यों छोड़ दिया?
  6. जा कर दिया आजाद तुझे : अब अगली संगोष्ठी में मिलना
  7. ब्लॉगर खाया हो या न हो, अघाया जरूर होता है : उसे हाजमोला का डब्बा दे दो
  8. डाक्टर, ज्योतिषी और वकील खामोखाँ नहीं डराते: वे तो खाली घर-कपड़े बिकवाते हैं
  9. इस पोस्ट को न पढ़ें…खुशदीप:चलो नहीं पढ़ते। लेकिन शीर्षक तो बांच सकते हैं।
  10. गांव में चलते हैं छ: और सात रुपये के नोट : अभी शहर नहीं पहुंचे
  11. प्रसिद्ध लेखकों के अजब टोटके : टोटके अपनायें प्रसिद्ध हो जायें
  12. अखबारों ने फर्जी खबरे छपी : और सिद्ध किया कि वे अखबार ही हैं
  13. आइए आज शाम को ऑनलाइन सीखें कि विंडोज़ 7 पर हिन्दी में काम कैसे करें : हिंदूवादियों और मार्क्सवादियों के लिये समय एक ही रहेगा कि अलग-अलग?

  14. स्वप्न तुम्हारे आकर जब से चूम गये मेरी पलकों को
    :पलकें मुंदी-मुंदी से मुस्काती देख रही अलकों को
  15. मुख्यमंत्री द्वारा हीरा सेम्पल प्रोसेसिंग प्लांट का उद्घाटन :मख्य मंत्री की कैसे हिम्मत हुई यह करने की? क्या सब जौहरी मर गये थे?
  16. हे भीष्म पितामह, हम ब्लॉगर नहीं, पर वहां थे…: आपको पितामह को नहीं भष्मासुर को रिपोर्ट करना है। अब वे आपके बॉस हैं!
  17. हाँकोगे तो हाँफोगे :ग्राहक की संतुष्टि में ही निष्पत्ति है।

About bhaikush

attractive,having a good smile
यह प्रविष्टि Uncategorized में पोस्ट की गई थी। बुकमार्क करें पर्मालिंक

24 Responses to चर्चा में केवल एक लाईना

  1. वाणी गीत कहते हैं:

    अनूप जी एक लाईनादेखन में छोटे लगे घाव करे गंभीर ..!!

  2. टिप्पणी में भी एक लाइना.."क्या एल.पी.जी. गैस हो गयी ख़तम, चर्चा हो गयी इतनी कम.." 🙂

  3. गिरिजेश राव कहते हैं:

    रपट डायरेक्ट इंटर्पोल पहुँच गई है। @ आइए आज शाम को ऑनलाइन सीखें कि विंडोज़ 7 पर हिन्दी में काम कैसे करें : हिंदूवादियों और मार्क्सवादियों के लिये समय एक ही रहेगा कि अलग-अलग? इसे तेरहवें नम्बर पर जान बूझ कर रखे या संयोगात ही। हम सीखेंगे इंटर्वल में !

  4. Nirmla Kapila कहते हैं:

    बहुत संक्षिप्त चर्चा है।

  5. Anil Pusadkar कहते हैं:

    एसएलएम यानी सिंगल लाईन मिसाईल टारगेट पर रही।

  6. रचना कहते हैं:

    चर्चा में केवल एक लाईना शब्द इलाहाबाद मे रहगये

  7. अच्छा…नया अन्दाज़? अच्छा लगा ये भी..

  8. cmpershad कहते हैं:

    हिंदूवादियों और मार्क्सवादियों के लिये समय एक ही रहेगा कि अलग-अलग?यह तो इस पर डिपेंड करेगा कि किलास कौन ले रहे हैं- नामवरजी या अशोक वाजपेयी जी:)

  9. Suresh Chiplunkar कहते हैं:

    cmpershad से सहमत… 🙂 एक नाम मेरी तरफ़ से भी, कि विंडोज़ 7 की क्लास अरुण शौरी लेंगे तो आते हैं… 🙂

  10. रचना कहते हैं:

    on one corner of the template i found the information that Dr Amar was responsible for this change in the templateSo i wish to congratulate him for the same

  11. अजय कुमार झा कहते हैं:

    कमाल है जी एकदमे कमाल है ..बहुते बढिया रहा ई प्रयोग

  12. हम से इस महाकुम्भ की महाचर्चा में एक लाइन भी नहीं बन पायी, आप लाइन पर लाइन दिए जाते हैं। बैडलक ही खराब है स्सा…**।

  13. अर्कजेश कहते हैं:

    आज चर्चा में शिर्फ़ एक लाइना : एक आइना बदलाव अच्छा लगा ।

  14. Ratan Singh Shekhawat कहते हैं:

    ये चर्चा भी बढ़िया रही 🙂

  15. यह क्या टेम्पलेट है? कापी-पेस्ट नहीं करने देता!

  16. M.A.Sharma "सेहर" कहते हैं:

    वाह भी वाह !!!!जो बात चार लाईना में नही कह सके वो…..यहाँ इक लाइना में kah deye yah ….:))

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s