Monthly Archives: सितम्बर 2006

सिर्फ हंगामा खड़ा करना मेरा मकसद नहीं

आज के चिट्ठाचर्चा की शुरुआत बधाई और शुभकामनाऒं से करें तो कैसा रहेगा! लेकिन पहले सबेरे का माहौल तो देख लीजिये. ये आज की फोटो (नीचे देखें)इल्हा दो मोज़ाम्बीक के सबेरे की है जिसे सुनील दीपक ने खासतौर से उनके … पढना जारी रखे

Uncategorized में प्रकाशित किया गया | 1 टिप्पणी

समझ कर चाँद जिसको आसमाँ ने दिल मे रखा है

जरा इस समीकरण को समझा जायेसमीकरण १: जो ज्यादा खर्च करे वह दिल वालासमीकरण २: बेदिल दिल्लीसमीकरण ३: दिल्ली वाले सबसे खर्चीले अब निष्कर्ष निकालिये कि बेदिल दिल्ली के बाशिंदे दिलवाले हुये कि नही? देश के दूसरे शहरों के मुकाबले … पढना जारी रखे

Uncategorized में प्रकाशित किया गया | 2 टिप्पणियाँ

माइक्रोसॉफ़्ट के नये फ़ॉनेटिक इनपुट औज़ार

नारद के लिये टकटकी लगाये साथी लोग ने लिखना स्थगित करके इंतजार शुरू कर दिया है कि नारद जी आयें तो लिखा जाय.यह कुछ ऐसे ही को फोटोग्राफर आये तब काम किया जाये तकि सनद रहे.ऐसे आपाधापी में नियमित है … पढना जारी रखे

Uncategorized में प्रकाशित किया गया | 4 टिप्पणियाँ

तुम्हारे नाम वाली इक गज़ल…

पिछली शुक्रवारी चिठ्ठा चर्चा के दौरान भाई अतुल अरोरा हमारी इतनी तारीफ कर गये कि हम तो शर्मा से गये.समीर बाबू के अँदाजे बयाँ से मुझे लग रहा है कि फुरसतिया जी और सुनील दीपक जी के के बाद यह … पढना जारी रखे

Uncategorized में प्रकाशित किया गया | 1 टिप्पणी

नीरज निर्मल घास पर…

नीरज निर्मल घास पर प हिंदी दिवस के अवसर पर पूरे देश में पुस्तक मेले लग रहे हैं.ऐसे ही एक मेले में खुलकर मिले नीरज दीवान से जगदीश भाटिया और बोलते पाये गये:- निर्मल हृदय नीरज निर्मल घास पर पड़ीं … पढना जारी रखे

Uncategorized में प्रकाशित किया गया | 2 टिप्पणियाँ

समाज सेवा के बहाने व्यावसायिकता?

उन्मुक्त की प्रविष्टि नई नहीं है, परंतु उन्होंने अपने सारे चिट्ठों को एक स्थल पर पढ़ने के लिए संजोया है, वहां पर वह नई बात बता रहे हैं कि इस पेज पर नयी प्रविष्टियां कैसे देखें. “यह बहुत आसान है। … पढना जारी रखे

Uncategorized में प्रकाशित किया गया | 4 टिप्पणियाँ

चवन्नी भर सरक गया इतवार

सबेरे से बांचते रहे अखबारचवन्नी भर सरक गया इतवारअब कितनी देर करोगे यारचलो चिट्ठाचर्चा करो तैयार. आज इतवार का मौज मजे का दिन.पूरे भारत में जहां भी छेनी-हथौड़े चलती है,जहां भी पहिया घूमता है वहां आज भगवान विश्वकर्मा की पूजा … पढना जारी रखे

Uncategorized में प्रकाशित किया गया | 1 टिप्पणी